वसुंधरा बनाओ – आनंदश्री

  • Post author:Editor
Prachi

एक पेड़ और लगाओ…

पेड़ लगाओ, भर पुर उगाओ
इस धरती को, वसुंधरा बनाओ
एक पेड़ और लगाओ…।

ऊपर नीला, आसमान है
इस धरती को, हरा बनाओ
एक पेड़ और लगाओ…।

तड़प रही है, धूप में धरती
कम हो रहें है, पेड़ जमीन पर
एक पेड़ और लगाओ…।

कोरोना आतंक, मचा रहा है
प्रकृति की गोद मे, अब चले चलो
एक पेड़ और लगाओ,
एक पेड़ और लगाओ…।

लेखक : प्रो डॉ दिनेश गुप्ता- आनंदश्री
आध्यात्मिक व्याख्याता एवं माइन्डसेट गुरु, मुम्बई


कॉपीराइट सूचना © उपरोक्त रचना / आलेख से संबंधित सर्वाधिकार रचनाकार / मूल स्रोत के पास सुरक्षित है। उड़ान हिन्दी पर प्रकाशित किसी भी सामग्री को पूर्ण या आंशिक रूप से रचनाकार या उड़ान हिन्दी की लिखित अनुमति के बिना सोशल मीडिया या पत्र-पत्रिका या समाचार वेबसाइट या ब्लॉग में पुनर्प्रकाशित करना वर्जित है।

prachi
Prachi