सहनशीलता

  • Post author:Editor

क्यों इतना सहनशील बनाया तूने
ऐ खुदा दिया तूने हर चीज हमें जज्बात भी है, दिल भी है
फिर भी हर गलती की
जिम्मेदार भी हम ही हैं!!

रहते है चुप हम
रोककर अपने आवेश को
सहज नहीं है सहनशील होना अपने वेग को रोक कर!!

सब ने कहा जो
हमे सुनना है
साथ ही साथ तुम्हें भी संभालना है
पर किसी को भी हमे नहीं समझना है!!

हंसते रहो ,मुस्कुराते रहो
चाहे दिनभर हर जिम्मेदारी निभाते रहो
पर रोज होने वाली हर गलती की
जिम्मेदार हम ही तो है!!

बोलना चाहते हैं हम
पर बोल नहीं पाते
हर चीज हम भी महसूस करते हैं
जितनी व्यथा तुम में है
उतने ही हम में भी!!

छिपा देते है हम अपनी वेदना
बहा देते है आंसुओं को
सबसे छुप -छूप कर !!

कभी-कभी जी चाहता है हम सबका भी
दूर उड़ जाए परिंदों की तरह
चिल्लाये बहुत जोरों से
पहाड़ों पर चढ़कर !!

पर रोक
लेती है अपनों की
परवाह हमें
फिर से ओढ़ लेती हैं हम सहनशीलता की चादर !!
ओढ़ लेती हैं हम
सहनशीलता की चादर!!!

– अनामिका अमिताभ गौरव, रामगढ़िया, आरा (बिहार)
आपकी रचनाएं समय-समय पर विभिन्न राष्ट्रीय समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रहती हैं। आपको साहित्य एवं अन्य क्षेत्रों में उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए कई प्रतिष्ठित संस्थानों द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है।


उड़ान हिन्दी चैनल को YouTube पर सब्सक्राइब करें


कॉपीराइट सूचना © उपरोक्त रचना / आलेख से संबंधित सर्वाधिकार रचनाकार / मूल स्रोत के पास सुरक्षित है। उड़ान हिन्दी पर प्रकाशित किसी भी सामग्री को पूर्ण या आंशिक रूप से रचनाकार या उड़ान हिन्दी की लिखित अनुमति के बिना सोशल मीडिया या पत्र-पत्रिका या समाचार वेबसाइट या ब्लॉग में पुनर्प्रकाशित करना वर्जित है।