तकदीर बदल लेगें

  • Post author:Web Editor
तेरे दिल को हम अपनी जागीर समझ बैठे।

555

अपने आंसुओं को हम तकदीर समझ बैठे।

हर मोंड पे मिल जाना, बाते हंस के करना
संग संग चलता तेरा, इजहार समझ बैठे।

वफा देखी नही तेरी, बेवफा कह नही सकता-
जिससे दर्द मिला मुझको, उसे प्यार समझ बैठे।

हर कदम रूलायेगी ये जिन्दगी मालूम नही था-
हर दर पर मिलती ठोकरं, इसे संसार समझ बैठे।

जला ली शमां अपनी, कोई तूफानो से कह दे
आंधियों को अब यहां, दिल धडकने समझ बैठे।

तकदीर बदल लेगें, तदबीर से हम अपनी-
अंगारों को राज अब चिंगारी समझ बैठे।

rajkumar+tiwari
राजकुमार तिवारी 
“राज बाराबंकवी”

व्हॉटसएप पर जुड़ें : उड़ान हिन्दी पर प्रकाशित नई पोस्ट की सूचना प्राप्त करने के लिए हमारे ऑफिशियल व्हाट्सएप चैनल की नि:शुल्क सदस्यता लें। व्हॉटसएप चैनल - उड़ान हिन्दी के सदस्य बनें


कॉपीराइट सूचना © उपरोक्त रचना / आलेख से संबंधित सर्वाधिकार रचनाकार / मूल स्रोत के पास सुरक्षित है। उड़ान हिन्दी पर प्रकाशित किसी भी सामग्री को पूर्ण या आंशिक रूप से रचनाकार या उड़ान हिन्दी की लिखित अनुमति के बिना सोशल मीडिया या पत्र-पत्रिका या समाचार वेबसाइट या ब्लॉग में पुनर्प्रकाशित करना वर्जित है।